InCollage 20220820 122505597

टीवी और फिल्म की दुनिया ग्लैमर से भरी होती है। इसकी चकाचौंध देख कई लोग इसमें करियर बनाने का सपना देखते हैं। लेकिन इस करियर के पक्ष में कई मां बाप नहीं होते हैं। वे अपने बच्चों को फिल्मी दुनिया का हिस्सा बनाना पसंद नहीं करते हैं। ऐसे में आज हम आपको उन सितारों से मिलाने जा रहे हैं जो अपना सपना पूरा करने के लिए घरवालों से बगावत कर गए और भागकर मुंबई आ गए

मोहिना कुमारी सिंह एक एक्ट्रेस, यूट्यूबर, डांसर और कोरियोग्राफर है। वह रजवाड़ा खानदान से ताल्लुक रखती हैं। उन्हें रीवा की राजकुमारी भी कहा जाता है। मोहिना बतौर डांसर अपना करियर आगे बढ़ाना चाहती थी।हालांकि उनके इस सपने में परिवार ने सपोर्ट नहीं किया। इसके बाद मोहिनी की 2019 में सुयश रावत से शादी भी हो गई। ऐसे में शादी के बाद उन्हें मजबूरी में अपना अभिनय का सपना छोड़ना पड़ा। उन्हें हम ये रिश्ता क्या कहलाता है और सिलसिला प्यार का जैसे शोज में देख चुके हैं।

‘नमक इश्क का’ फेम श्रुति शर्मा का सपना भी एक एक्ट्रेस बनना था। हालांकि उनके माता पिता इस प्रोफेशन के खिलाफ थे। वे नहीं चाहते थे कि उनकी बेटी मनोरंजन की दुनिया का हिस्सा बने। हालांकि अपने सपने को पूरा करने के लिए श्रुति ने परिवार से लड़ाई कर ली। ऐसा करना उनके लिए फायदेमंद भी रहा। आज वे इंडस्ट्री में जाना पहचाना नाम है।ये रिश्ता क्या कहलाता है फेम हिना खान आज टीवी की दुनिया की जानी मानी अभिनेत्री हैं। हालांकि यहां तक पहुँचने के लिए उन्हें परिवार से बुराई मोल लेनी पड़ी। उनका पूरा खानदान उनके इस प्रोफेशन के खिलाफ था। लेकिन उन्होंने अपने दिल की सूनी और करियर को प्राथमिकता दी। बाद में उन्हें अपने पिता से सपोर्ट भी मिला।

टीवी की दुनिया में अंकित गेरा भी बड़ा नाम है। लेकिन उनके पिता मोहन लाल गेरा अपने बेटे को अपनी तरह एक बिजनेसमैन बनाना चाहते थे। लेकिन अंकित ने पारिवारिक बिजनेस को छोड़ एक्टिंग को चुना। इसके लिए उन्हें परिवार से काफी लड़ाई भी करनी पड़ी। लेकिन अब उनके बीच सबकुछ ठीक है।बॉलीवुड क्वीन कंगना रनौत ने जब अपने पिता को एक्टिंग में करियर बनाने की बात कही तो वे बड़े नाराज हुए थे। उन्होंने बेटी को घर से निकल जाने को कहा था। इसके बावजूद कंगना ने अपने सपने को नहीं छोड़ा। एक सफल अभिनेत्री बनने के भी कई सालों तक उनके पिता ने उनसे बातचीत नहीं की थी। लेकिन अब सबकुछ ठीक है।

बॉलीवुड के मंजे हुए कलाकार पंकज त्रिपाठी बरौली प्रखंड के बेलसंड गांव के रहने वाले हैं। उन्होंने भी एक्टिंग में करियर बनाने के लिए अपना गांव और परिवार छोड़ दिया था। मुंबई में संघर्ष के दिनों में उनकी पत्नी मृदुला ने बड़ा साथ दिया। उन्हीं के पैसों से पंकज ने संघर्ष के दिन काटे और फिर बड़े सितारें बन गए।